अर्थव्यवस्था

नीमच को कृषि उपज मंडी के लिए जाना जाता है। यह यहाँ के निवासियों की आजीविका का मुख्य स्त्रोत है और एक अन्य आकर्षण केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (केरिपुब) भी है।

सन 1939 में नीमच में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (केरिपुब) का जन्म हुआ था और संगठन के लिए बड़े पैमाने पर सेना में भर्ती केंद्र है। केरिपुब अभी भी नीमच के ब्रिटिश सैन्य छावनी का हिस्सा है, जो भारत में अपनी तरह का पहला केंद्र था। बंगला बगीचा, देशी सेना क्षेत्र, बाजार, खेत और बागानों को शुरू में नगरपालिका बोर्ड और बाद में नगर परिषद द्वारा बनाए रखा गया था। स्वतंत्रता के बाद नीमच सिटी और बाघाना क्षेत्र को नगरपालिका क्षेत्र में शामिल किया गया था। नीमच को भारत की नेत्र नगरी के रूप में जाना जाता है क्योंकि यहाँ प्रति व्यक्ति नेत्र दान की दर सर्वाधिक है। एशिया का सबसे बड़ा शासकीय अफीम एवं क्षारोद कारखाना नीमच में ही स्थित है जिसका नाम -“ओपियम और अल्कलॉइड वर्क्स” है । यह कृषि उत्पादों के वितरण का प्रमुख स्थान है। हथकरघा बुनाई यहाँ का प्रमुख उद्योग है।

नीमच की स्थानीय अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि उपज मंडी पर आधारित है, जो कृषि उत्पादों की पहुँच के संदर्भ में एम सी एक्स और डब्लू टी ओ द्वारा 2011 की रिपोर्ट के अनुसार एशिया की सबसे बड़ी कृषि उपज मंडी और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मंडी है। नीमच के कृषि बाजार में कई प्रकार के अनाज, दालें, मसाले, तिलहन और जड़ी-बूटियों का व्यापार किया जाता है। अनाज जैसे – गेहूं, जौ, मक्का, ज्वार इत्यादि। मसाले जैसे – धनिया, मेथी, अजवाईन, खसखस ​​या पोस्ता, जीरा, काला जीरा या कलौंजी, हलीम के बीज, सुवा, तुकमारिया इत्यादि। दालें जैसे – चना, उड़द, मूंग, मसूर, मटर। तिलहन जैसे – सोयाबीन, काली सरसों, पीली सरसों, फ्लैक्स सीड्स, मूंगफली, तिल, तारामिरा के बीज, अरंडी के बीज, डोलमी और कई और कृषि उत्पाद जैसे – लहसुन, प्याज, ग्वार के बीज, ईसबगोल के बीज। नीमच भारत में जड़ी-बूटियों का एक प्रमुख व्यापारिक केंद्र है और पूरी दुनिया में अश्वगंधा जड़ों (भारतीय जिनसेंग, विथानिया सोम्निफेरा) का एकमात्र नीलामी और व्यापारिक केंद्र है, नीमच में 500 से अधिक प्रकार की जड़ी-बूटियों का व्यापार होता है। प्रमुख रूप से यहाँ अश्वगंधा, कालमेघ, शतावरी, सफ़ेद मुसली, स्टीविया की पत्तियां, गिलोय, बबूल इत्यादि जड़ी-बूटियां पाई जाती हैं। नीमच खाद्य प्रसंस्करण उद्योग में भी एक प्रमुख व्यापारिक स्थान है और इसमें कई कुकिंग ऑयल मिल्स, सॉल्वेंट एक्सट्रैक्शन प्लांट्स, दालों के प्रोसेसिंग प्लांट्स, डिहाइड्रेशन प्लांट्स, हर्बल एक्सट्रेक्शन प्लांट्स और इसबगोल की भूसी वाले प्लांट्स हैं।

नीमच जिला देश में अफीम के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक है। भारत के केवल दो अफीम कारखानों में से नीमच एक है। नीमच जिले की जलवायु अफीम के उत्पादन के लिए उपयुक्त है और इस प्रकार अफीम का व्यापार इस क्षेत्र में प्रमुख खेती वाली फसलों में से एक है। अन्य प्रमुख कृषि उत्पाद संतरे, नींबू, लाल और गुलाबी गुलाब और कई जड़ी-बूटियां हैं।

प्रमुख निर्यात योग्य वस्तुएँ हैं: इसबगोल, अश्वगंधा और कई प्रकार की जड़ी-बूटियाँ, मेथी, अजवाईन, धनिया, सोयाबीन उत्पाद जैसे – तेल, डी-ऑइल केक, सोया पनीर, सोया पापड, सोया मिल्क आदि, लहसुन पाउडर, प्याज पाउडर, प्याज और लहसुन के निर्जलित गुच्छे, लाल मिर्च पाउडर, चमड़े के वस्त्र, कृत्रिम गहने।